रात में कुत्ते क्यों रोते हैं ? , कुत्ता क्या संकेत देता हैं ? , कुत्ते के रोने का क्या कारण हैं ? :- दोस्तो , क्या आपको पता हैं कि कुत्ते रात के समय में भौंकते या चिल्लाते क्यों हैं ? इस दुनिया में कुत्तों को सबसे वफादार जीव माना जाता हैं । कहते है इंसान भले ही आपका नमक खा कर आपसे गाद्दारी कर दे , मगर कुत्ता एक बार जिसकी रोटी खा लेता हैं मरते दम तक उसके साथ धोखा नहीं कर सकता और रोटी का हक अदा करता हैं । कुत्तों की वफादारी की वजह से ही लोग इन्हें घरों में पालना पसंद करते हैं । दोस्तों कुत्ते बाकि जानवरो के मुकाबले इंसानों के अच्छे दोस्त होते हैं और इंसानों का अच्छा बुरा अच्छी तरह से समझते हैं ।

दोस्तो , आप सभी ने रात में कुत्तों को रोते या भौंकते हुए देखा या सुना होगा , पर क्या आपने कभी सोचा हैं कि अधिकतर कुत्ते रात को क्यों भौंकते हैं । और कुत्ते के रात में रोने को अवशगुन क्यों माना जाता हैं । हमारे बुजुर्गो के अनुसार कुत्ते वे सब देख सकते हैं जो हम इंसानों की आखें नही देख सकती , यानि की कुत्तों को कुछ ऐसा दिखता हैं जो इंसान नही देख पता है ‌। बुजुर्गो के अनुसार रात में जब भी कोई कुत्ता रोता हैं तो वह हमें किसी की मृत्यु होने का संकेत देता हैं कि आस पास किसी की मृत्यु होने वाली हैं । इसके अलावा बहुत से लोगों का यह भी मानना है कि कुत्ते प्रेत आत्मा को देख सकते हैं और आस पास होने वाले खतरे को पहले से ही महसूस कर लेते हैं । ऐसे मे ज्यादातर दोस्तो आप रात को किसी कुत्ते को रोता देखते है तो इसको किसी प्रेत आत्मा से जोड़ा जाता है , हो सकता हैं कि ये सभी बाते सच हो परंतु अगर हम विज्ञानिक नज़र से सोचे तो ऐसा कुछ भी नही है । विज्ञानिको ने कुत्तों को लेकर कही प्रकार की रिसर्च की है जिसके बाद कही चौकाने वाले परिणाम सामने आए है दरासल कुत्ते के रोने को विज्ञानिक भाषा में हाउल ( Haul ) कहा जाता हैं ऐसा कहा जाता हैं कि कुत्ते भेड़ियों की एक प्रजाति हैं । इसी लिए अधिकतर कुत्ते भेड़ियों की तरह हरकतें करते हैं ।

जिस प्रकार भेड़िये एक दूसरे को संदेश पहुंचाने के लिए हाउल ( Haul ) करते हैं उसी प्रकार कुत्ते अपनी भाषा में एक दूसरे को संदेश पहुंचाने के लिए हाउल का प्रयोग करते हैं ।

आप लोगों ने ज्यादातर देखा होगा कि हर गली में कुछ कुत्ते रहते है और जिस गली मोहल्ले में कुत्ते रहते हैं उसे अपना घर , मोहल्ला मान लेते हैं । लेकिन अलग कोई अनजान कुत्ता उनके इलाके में आ जाता हैं या आने की कोशिश करता हैं तो वो गुस्से में आग बबूला हो जाते है ‌। और बाकी अपने मोहल्ले के कुत्ते साथियों को बताने के लिए हाउल करते हैं । एक प्रकार से देखा जाए तो हाउल के जरिए कुत्ते एक दूसरे से बात करते है ।

इसके अलावा दोस्तो कुत्ते अपना दर्द , नाराज़गी और गुस्सा जताने के लिए भी हाउल ( Haul ) करते हैं । साथ ही दोस्तो जब कोई अनजान व्यक्ति उनसे मोहल्ले में आता हैं । तो भी कुत्ते बाकि कुत्तों को हाउल करके उस व्यक्ति के बारे में आगाह करते हैं , और नज़र रखने को कहते हैं । ताकि वो अंजान व्यक्ति उनके गली मोहल्ले वालों को नुकसान न पहुंचा सकें ।

तो दोस्तों कुत्तों के रात में रोने या भोकने के दो अलग अलग नजरिए हैं एक धार्मिक और एक वैज्ञानिक ।

By Admin